हकलाना क्या है

आपका आत्मा विश्वास तो कहता है कि हमारी सबसे बड़ी बोलने की कमजोरी तो हकलाहट है , लेकिन आपका मन ठीक बोलने को कहता है। आपके आत्मविश्वास और ठीक बोलने को ,कहने वाले मन के बीच झगङा या टकराव का होना ,अच्छा बोलने की कोशिश करना ,न अटकने की सोचना,  ही हकलाहट है। हकलाना जन्म से नही होता है ,बल्कि बचपन में किसी कारण से बच्चे का Respiration System कमजोर होने से इसकी शुरुआत होती है, और फेफड़ो (Lung )के बीच गैप कम हो जाता है इसीलिये बच्चे की External Respiration कमजोर हो जाती है , और बच्चा अटक -अटककर बोलने लगता है। बच्चा रुककर नही बोलना चाहता है। असलियत का उसे ज्ञान नही ,वह अटक -अटककर बोलने के । बजाए कमजोर Respiration System होते  हुए भी ज्यादा बोलने लगता है। ज्यादा बोलने से बच्चे की स्पीड बढ़ जाती है ,और स्पीच बढ़ने की वजह से ही अटकने लगता है। इस अटकने को ही हकलाना कहते है।  दूसरे शब्दों में  स्पीच ऑर्गन्स , ब्रेन  और  चाहत , तीनो में प्रॉपर कंबिनेशन न बन पाने का रिजल्ट ही  स्टम्मेरिंग है
धमिर्क एवं पौराणिक ग्रंथों में हकलाहट को गदगद कहा गया है। वास्तव में हकलाना जीभ या मुँह में नही बलिक दिमाग में होता है। 

What is stutter

Your soul says faith, that our greatest speaking weakness is stuttering, but your mind tells you to speak right. To be confident and to speak properly, to have a fight or conflict between the saying mind, to try to speak well, not to be stuck, is stuttering. Stuttering does not occur from birth, but due to some reason in childhood, it starts due to weakening of the Respiration System of the child, and the gap between the lungs decreases, hence the external Respiration of the child becomes weak, and the child is stuck - He starts speaking in surprise. The child does not want to stop and speak. He has no knowledge of the reality, he stutters. Instead of being a weak Respiration System, it tends to speak more. By speaking more, the child's speed increases, and due to the increase in speech, it starts getting stuck. This stuck is called stutter. In other words, speech organisms, brain and desire, the result of not being able to form a proper combination in all three is stammering.
In Dhamirk and mythological texts, stuttering has been called Gadagad. In fact, stammering occurs not in the tongue or mouth but in the brain

SURAJ STAMMERING CARE CENTRE 

Near badi maie satna road Maihar Distt satna Madhya  Pradesh

 You can live chat on  Whatsapp No-9300273703,9200824582

1-Appointment 2 Location 3- Online Speech therapy 4- Regular therapy 5- Home therapy 6-Basic therapy   7- Hostel   8-Cancellation policy